मैं पत्थर हूँ मील का

by Nishant Lodha

                                                   

 

 

“उड़ने वालों के लिए नहीं,

चलने वालों के लिए बना हूँ |

सपने देखने वालों के लिए,

हर छोर पर खड़ा हूँ |

नापने हो गर कदम अपने,

पढ़ना मुझे सीख लो |

 

शून्य जब हो जाऊं तभी,

मकसद हो पूरा मेरा |

मैं पत्थर हूँ मील का …”

Dedicated to all the ASER team members and volunteers who are creating ripples with their thoughtful effort to make quality education a reality, in the most isolated communities of the country. So, I felt like comparing ourselves to the values and purpose of a ‘milestone’.

– निशान्त

 

 

  • Yogesh Kumawat

    Owesome …