चलते – फिरते

अब असर करने की गुंजाइश और बढ़ गई | यह क़स्बा, लोगों के हर छोटे – बड़े सामान मिलने के लिए बहुत था | यहाँ ग्रामीण खरीदारी करने पहुंचे थे | हम दोनों ने यह देखा और निश्चय किया कि ऑटो, टैक्सी और स्थानीय लोगों से गाँव के बारे में जानकारी हासिल करें | यही शायद उस समय हमारे लिए सबसे सही उम्मीद थी और हमने ऐसा ही किया

Continue Reading →

Leaders in villages

At the end of the day when he understood that the learning levels in his village were relatively low, he was firm in his mind to do something. When our partner NGO members expressed help in providing some learning materials, the Panchayat member decided to do peer-learning classes in the village. His move was inspiring because he could gather support of his villagers in a day. In his view, education was very important in development.

Continue Reading →

असर – ज्ञान चक्षु

तभी गांव के एक गणमान्य व्यक्ति आए जो बच्चों का मूल्यांकन देख चुके थे | वे पूरे भीड़ को संबोधित करते हुए बोले ,’’ यह कोई आम सर्वे नही है | इससे हमे आज पता चला कि हमारे गांव के सभी बच्चे पढाई क्यों छोड़ते हैं | क्यों हमारे गांव में बेरोजगारी महामारी की तरह फैली है | फिर सब एक दूसरे से इसकी सुधार की बात करने लगे |

Continue Reading →

असर की यात्रा – मरुस्थल में बाढ़ और जीवन दर्शन !

इस वर्ष असर सर्वे में काम को लेकर में काफी उत्साहित था | असर सर्वे मेरे लिए नया था और जाहिर सी बात है कि लीक से हटकर जब कुछ नया सीखते हैं तो उसका आनंद कुछ और ही होता है ! काम था असर सर्वे के लिए डाइट पार्टनर्स से मिलना और सर्वे की तारीख को अंतिम रूप देना |

Continue Reading →

A short ASER walk

As an ASER volunteer, one gets to go into the heart of the village, meeting strangers in the village, communicating the cause and moving on. The volunteers’ walk leaves many footprints behind- indicators of their dedication and the desire of a community that lets them in to discover the learning levels of the children across rural communities.

Continue Reading →